A CSR Initiative of GAIL (India) Limited
Blogs

आटोमैटिक वूलेन गारमेंट मशीन की ट्रेनिंग शुरू

रुद्रप्रयाग के आपदा प्रभावित गांवों में स्थानीय निवासियों के लिए आजीविका के स्रोत बढ़ाने में जुटी श्रीजन परियोजना ने एक और बड़ी पहल की है। गेल इंडिया के वित्तीय सहयोग तथा मानवभारती संस्था से संचालित श्रीजन परियोजना ने ग्रामीणों को आटोमैटिक वूलेन गारमेंट मशीन और कच्चा माल उपलब्ध कराए हैं। बुधवार 18 अप्रैल से प्रशिक्षक विपिन जैन ने मशीन आपरेशन की ट्रेनिंग शुरू कर दी।

श्रीजन परियोजना की संसारी स्थित सीआरटीसी में लुधियाना से आए प्रशिक्षक विपिन जैन ने महिलाओं को मशीन की कार्यप्रणाली तथा इसके लाभ की जानकारी दी। उन्होंने मशीन के हर पार्ट के कार्यों के बारे में बताया। पैनल स्टार्ट करना तथा मशीन को ऑन, ऑफ करने की ट्रेनिंग भी दी। ट्रेनिंग में श्रीजन परियोजना कार्यकर्ता हिकमत सिंह रावत, साहिस्ता खान, ग्रामीण निर्मला देवी, रजनी देवी, करिश्मा देवी, बिजया देवी व सुषमा देवी शामिल हुए।

परियोजना कार्यकर्ता हिकमत सिंह ने बताया कि ट्रेनिंग लेकर महिलाएं मशीन पर ऊनी वस्त्र बनाकर आय अर्जित कर सकेंगी। श्रीजन परियोजना की यह पहल पहाड़ में रोजगार के संसाधन विकसित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।