A CSR Initiative of GAIL (India) Limited

Author: Manava Bharati

Blogs

श्रीजन परियोजनाः हैंडलूम की ट्रेनिंग से आय के नए स्रोत

गेल इंडिया से वित्त पोषित श्रीजन परियोजना ने रुद्रप्रयाग के आपदा प्रभावित इलाकों के ग्रामीणों के लिए आय के स्रोत विकसित करने के लिए एक और अभिनव पहल की है। ग्राम संसारी की सीआरटीसी में महिलाओं को हैंडलूम वर्क का प्रशिक्षण शुरू किया गया है। इसके साथ ही सिलाई, कढ़ाई, बुनाई…
Blogs

गेल भवन में लगी श्रीजन के उत्पादों की प्रदर्शनी

रुद्रप्रयाग के आपदा प्रभावित ग्रामीणों के बनाए उत्पादों की गेल दिवस पर प्रदर्शनी लगाई गई। नई दिल्ली में गेल भवन और नोएडा में गेल विहार में लगे स्टालों पर ग्रामीणों के बनाए उत्पादों की बिक्री की गई। प्रदर्शनी में ग्रामीण महिलाओं द्वारा तैयार हैंडीक्राफ्ट उत्पाद काफी पसंद किए गए। इन…
Blogs

श्रीजन परियोजनाः किसानों की आय बढ़ाने के लिए खेतों में उतरेंगे पावर टिलर

मानवभारती के अध्यक्ष रजत मिश्रा ने ग्रामीणों को बांटे पावर टिलर और थ्रेसर रुद्रप्रयाग के दस गांवों में चल रही गेल इंडिया से वित्त पोषित श्रीजन परियोजना 200 परिवारों को दी गई सोलर लालटेन, दस गांवों के लिए सोलर स्ट्रीट लाइट और संगीत उपकरण रुद्रप्रयाग। गेल इंडिया से वित्त पोषित श्रीजन परियोजना ने पावर टिलर…
Blogs

श्रीजन परियोजनाः अब आसान होगी पहाड़ में खेती

रुद्रप्रयाग। श्रीजन परियोजना ने रुद्रप्रयाग के आपदा प्रभावित गांवों में कृषि को आसान बनाने के लिए पावर टिलर, थ्रेसर, ब्रश कटर सहित अन्य उन्नत कृषि उपकरणों का प्रदर्शन किया। बुधवार को देहरादून से आए ट्रेनर शहजाद ने ऊखीमठ ब्लाक के संसारी तथा जखोली ब्लाक के लावड़ी  में ग्रामीणों को पावर टिलर…
Blogs

आटोमैटिक वूलेन गारमेंट मशीन की ट्रेनिंग शुरू

रुद्रप्रयाग के आपदा प्रभावित गांवों में स्थानीय निवासियों के लिए आजीविका के स्रोत बढ़ाने में जुटी श्रीजन परियोजना ने एक और बड़ी पहल की है। गेल इंडिया के वित्तीय सहयोग तथा मानवभारती संस्था से संचालित श्रीजन परियोजना ने ग्रामीणों को आटोमैटिक वूलेन गारमेंट मशीन और कच्चा माल उपलब्ध कराए हैं।…
Blogs

श्रीजन परियोजनाः महिला दिवस पर गूंजे गीत

रुद्रप्रयाग जिले के गांवों में दीर्घगामी आपदा प्रबंधन और स्थाई पुनर्वास पर कार्य कर रही श्रीजन परियोजना के कार्यकर्ताओं ने महिला दिवस धूमधाम से मनाया। त्यूड़ी गांव में भीरी और खुमेरा गांव से भी महिलाएं आईं और भजन- कीर्तन का आयोजन किया गया। त्यूड़ी की प्रधान बीना देवी ने महिलाओं…
Disaster Management

श्रीजन घराटः 490 परिवारों को मिली बड़ी राहत

 25 फरवरी 2016 को ऊखीमठ ब्लाक के त्यूड़ी गांव के पंचायत भवन में बड़ी संख्या में ग्रामीण पहुंचे हैं। यहां घराट पर ट्रेनिंग होनी है। कोटद्वार से घराट विशेषज्ञ महेश भट्ट ग्रामीणों को घराट के हर पुर्जे, इससे होने वाले फायदों व बचत पर जानकारी देने यहां आए हैं। आपदा…
Disaster Management

श्रीजन कौशल विकासः दोगुने से ज्यादा हो गए हुनरमंद

2013 की आपदा में पति की मृत्यु हो गई। मुझे अवसाद ने घेर लिया था। मैं समझ ही नहीं पा रही थी क्या करूं। हमेशा यह सवाल झकझोरता रहता कि अब मेरे बच्चों का क्या होगा। श्रीजन की टीम हमारे गांव पहुंची और लोगों के साथ बैठकें की। उन्होंने हमसे कहा…
Disaster Management

श्रीजन परियोजनाः आपदा से बचाए सावधानी और सतर्कता

6 फरवरी, 2017 की रात 10:35 बजे आए भूकंप ने एक बार फिर उत्तराखंड को हिला दिया। 5.8 मैग्नीट्यूड के इस भूकंप का केंद्र वहीं इलाका था, जहां श्रीजन परियोजना काम कर रही है। भूकंप से सभी घबरा रहे थे। लोग घरों से बाहर निकल आए थे। एक बार लगा…
Disaster Management

श्रीजन परियोजनाः इन गांवों में बर्बाद नहीं होता बारिश का पानी

जखोली ब्लाक के पाट्यौ गांव के 25 परिवार एक मात्र हैंडपंप के भरोसे थे। पानी के लिए हैंडपंप पर लगी लंबी लाइन कब कम होगी, इसके इंतजार में कई बार घर लौटना पड़ जाता था। अभी भी गांव से करीब तीन किलोमीटर दूर स्रोत से पानी लाना पड़ता है। पानी…
Disaster Management

एजोला से पशुओं की दुग्ध उत्पादन क्षमता में वृद्धि

एजोला उथले जल में तैरती हुई फर्न होती है, जो जल की सतह पर जमे शैवाल (काई) की तरह दिखती है। इसको सुपर प्लांट माना जाता है। सामान्यतः एजोला धान के खेतों में या उथले जल में होती है और बहुत तेजी से बढ़ती है। यह वातावरण में मौजूद नाइट्रोजन…
Disaster Management

श्रीजन नैपियर ग्रासः अब जंगल जाना मजबूरी नहीं  

अब हमारे सामने रोजाना जंगल जाने की कोई मजबूरी नहीं है। पहले हर घर से महिलाएं पशुओं के लिए चारा पत्ती और ईंधन लेने जंगल जा रही थी। रोजाना, चाहे तेज बारिश हो या फिर खूब ठंड का मौसम। हमेशा यही सोचते थे कि अगर जंगल नहीं जाएंगे तो पशुओं…
Disaster Management

श्रीजन परियोजनाः महिलाओं को बताए उनके अधिकार

रुद्रप्रयाग। गेल इंडिया के सहयोग से संचालित श्रीजन परियोजना की अगस्त्यमुनि ब्लाक स्तरीय वर्कशाप में महिलाओं को घरेलू हिंसा के खिलाफ जागरूक किया गया। इस मौके पर गुप्तकाशी के पुलिस उपाधीक्षक अभय सिंह ने महिलाओं को घरेलू हिंसा से संरक्षण अधिनियम 2005 में दिए गए अधिकारों और कानूनी प्रक्रिया की…
Disaster Management

श्रीजन परियोजनाः जैविक खेती से बदल रहे हालात

 आपदा से पहले बुटोल गांव में 37 परिवारों का अधिकतर खर्चा सब्जी उत्पादन पर चल रहा था।  हालात बिगड़ गए और खेती की काफी भूमि बाढ़ में बह गई। चंद्रापुरी का बाजार भी जलप्रलय में खत्म सा हो गया था। अलकनंदा से पानी लिफ्ट करने वाले हाइड्रम भी बह चुके थे।…
Disaster Management

श्रीजन पशुपालनः बढ़ गई पशुपालन से आय

श्रीजन परियोजना की शुरुआत में भी आपदा प्रभावित इलाकों में पशुपालन किया जा रहा था, लेकिन उन्नत प्रजाति के पशु उपलब्ध नहीं थे। घरों से दूर जंगलों से चारा लाया जा रहा था। चारे की कमी बनी थी। इन वजहों से कई परिवार पशुपालन नहीं करना चाह रहे थे। श्रीजन…
Disaster Management

श्रीजन पशुपालन : मुझे निराशा से बाहर निकाला श्रीजन ने

 " अब मेरे परिवार की सभी जरूरतें पूरी हो रही हैं। बच्चों की स्कूल फीस समय पर जमा हो रही है और कुछ पैसा बचत भी कर पा रहे हैं। मैं खुद को आत्मनिर्भर महसूस करती हूं और मुझे इस बात की बड़ी खुशी है कि मैं घर का खर्चा चलाने में…
Disaster Management

श्रीजन आवासःअब भूकंप से भी खतरा नहीं

बारिश होते ही हम चिंता में पड़ जाते थे। पहाड़ है तो बारिश तो होगी ही और वो भी बहुत होगी। 2013 की आपदा में हमारा एक कमरे का मकान टूट गया था। कई जगह दरार पड़े कमरे में बारिश के समय पानी टपकता था। बारिश वाली रातें जागकर गुजारी…
Disaster Management

श्रीजन एसएचजीः आपदा के अंधेरे में रोशनी बन गए समूह

त्यूड़ी गांव के पंचायत भवन में शुक्रवार चार अगस्त, 2017 की शाम चार बजे आरती स्वयं सहायता समूह की मासिक बैठक बुलाई गई है। बारिश सुबह से ही तेज है, इसलिए महिलाएं थोड़ा देरी से पहुंच रही हैं। करीब सवा चार बजे तक सभी सदस्य पंचायत भवन परिसर में हैं। जैसे ही जो…
Disaster Management

श्रीजन काउंसलिंगः जेहन में दबा दर्द बाहर निकला

मैं भगवान को नहीं मानती। अगर वो होता तो मेरा परिवार नहीं उजड़ता। मैंने तो किसी का कुछ नहीं बिगाड़ा था, तो मेरे परिवार को क्यों उजाड़ दिया। मेरे सामने से हट जाओ, चले जाओ यहां से। मैं कहां जाऊं, अब मेरा कोई नहीं बचा। उसका करुण क्रंदन सुनकर पूरा भीरी असहज…
  • 1
  • 2