A CSR Initiative of GAIL (India) Limited

GAIL (India) LImited

Blogs

गेल भवन में लगी श्रीजन के उत्पादों की प्रदर्शनी

रुद्रप्रयाग के आपदा प्रभावित ग्रामीणों के बनाए उत्पादों की गेल दिवस पर प्रदर्शनी लगाई गई। नई दिल्ली में गेल भवन और नोएडा में गेल विहार में लगे स्टालों पर ग्रामीणों के बनाए उत्पादों की बिक्री की गई। प्रदर्शनी में ग्रामीण महिलाओं द्वारा तैयार हैंडीक्राफ्ट उत्पाद काफी पसंद किए गए। इन…
Blogs

श्रीजन परियोजनाः महिला दिवस पर गूंजे गीत

रुद्रप्रयाग जिले के गांवों में दीर्घगामी आपदा प्रबंधन और स्थाई पुनर्वास पर कार्य कर रही श्रीजन परियोजना के कार्यकर्ताओं ने महिला दिवस धूमधाम से मनाया। त्यूड़ी गांव में भीरी और खुमेरा गांव से भी महिलाएं आईं और भजन- कीर्तन का आयोजन किया गया। त्यूड़ी की प्रधान बीना देवी ने महिलाओं…
Disaster Management

एजोला से पशुओं की दुग्ध उत्पादन क्षमता में वृद्धि

एजोला उथले जल में तैरती हुई फर्न होती है, जो जल की सतह पर जमे शैवाल (काई) की तरह दिखती है। इसको सुपर प्लांट माना जाता है। सामान्यतः एजोला धान के खेतों में या उथले जल में होती है और बहुत तेजी से बढ़ती है। यह वातावरण में मौजूद नाइट्रोजन…
Disaster Management

श्रीजन नैपियर ग्रासः अब जंगल जाना मजबूरी नहीं  

अब हमारे सामने रोजाना जंगल जाने की कोई मजबूरी नहीं है। पहले हर घर से महिलाएं पशुओं के लिए चारा पत्ती और ईंधन लेने जंगल जा रही थी। रोजाना, चाहे तेज बारिश हो या फिर खूब ठंड का मौसम। हमेशा यही सोचते थे कि अगर जंगल नहीं जाएंगे तो पशुओं…
Disaster Management

श्रीजन परियोजनाः जैविक खेती से बदल रहे हालात

 आपदा से पहले बुटोल गांव में 37 परिवारों का अधिकतर खर्चा सब्जी उत्पादन पर चल रहा था।  हालात बिगड़ गए और खेती की काफी भूमि बाढ़ में बह गई। चंद्रापुरी का बाजार भी जलप्रलय में खत्म सा हो गया था। अलकनंदा से पानी लिफ्ट करने वाले हाइड्रम भी बह चुके थे।…
Disaster Management

श्रीजन एसएचजीः आपदा के अंधेरे में रोशनी बन गए समूह

त्यूड़ी गांव के पंचायत भवन में शुक्रवार चार अगस्त, 2017 की शाम चार बजे आरती स्वयं सहायता समूह की मासिक बैठक बुलाई गई है। बारिश सुबह से ही तेज है, इसलिए महिलाएं थोड़ा देरी से पहुंच रही हैं। करीब सवा चार बजे तक सभी सदस्य पंचायत भवन परिसर में हैं। जैसे ही जो…
Disaster Management

श्रीजन काउंसलिंगः जेहन में दबा दर्द बाहर निकला

मैं भगवान को नहीं मानती। अगर वो होता तो मेरा परिवार नहीं उजड़ता। मैंने तो किसी का कुछ नहीं बिगाड़ा था, तो मेरे परिवार को क्यों उजाड़ दिया। मेरे सामने से हट जाओ, चले जाओ यहां से। मैं कहां जाऊं, अब मेरा कोई नहीं बचा। उसका करुण क्रंदन सुनकर पूरा भीरी असहज…
Disaster Management

रुद्रप्रयाग में श्रीजन परियोजना का पहला कदम

शुरुआत में श्रीजन परियोजना में रुद्रप्रयाग जिले के अगस्त्यमुनि, ऊखीमठ और जखोली ब्लाकों के दस-दस यानि 30 गांव शामिल किए गए। जनभागीदारी से किए गए फील्ड सर्वे के नतीजों के अनुसार अगस्त्यमुनि के दस, ऊखीमठ के 15 और जखोली के पांच गांवों में परियोजना संचालित की गई। मार्च, 2014 की शुरुआत में श्रीजन परियोजना ने…
Disaster Management

श्रीजन परियोजना : आपदा के अंधेरे से समृद्धि के उजाले की ओर…

उत्तराखंड की केदारघाटी में जून, 2013 की आपदा से जूझ रहे रुद्रप्रयाग जिले के तीन ब्लाकों अगस्त्यमुनि, जखोली और ऊखीमठ के गांवों में स्थाई पुनर्वास और आजीविका प्रबंधन के लिए गेल इंडिया की पहल पर मानवभारती संस्था ने श्रीजन परियोजना की शुरुआत की। वर्तमान में दस गांवों में संचालित हो…